ED का चार्ट शीट और अगस्तावेस्टलैंड घोटाला

ED का चार्ट शीट अगस्तावेस्टलैंड के घोटाले पर लीक हुआ


सत्ता की रोशनी मैं झूठ का व्यापार करने वालों को शर्मिंदा होना ही पड़ता हैअगस्तावेस्टलैंड घोटाले में बिचौलियों क्रिश्चियन मिशेल के नए खुलासे के बाद राजनीतिक गलियारों सेना के अधिकारियों सरकारी अफसरों और मीडिया में हड़कंप मच गया है।

अगस्तावेस्टलैंड घोटाले में बिचौलिया क्रिश्चियन मिशेल और हमारे देश का मीडिया

इस घोटाले में गांधी परिवार, कुछ राजनेताओं और कुछ पत्रकार के नाम सामने आए हैं। जिन लोगों के नाम इस घोटाले में सामने आए हैं वह लोग बेचैन है की क्रिश्चियन मिशेल आगे चलकर अपने खुलासे और कौन-कौन से राज खोलेगा यह पत्रकार हमारे सामने नेताओं से सवाल पूछते हैं और पीछे से उन्ही नेताओं की दलालों से मुलाकात करवाते हैं। हम सब लोग यह जानते हैं कि हमारे देश में ऐसे पत्रकार हैं ऐसे कुछ संपादक हैं जिनके पास आज बहुत सारा पैसा है लेकिन यह कोई नहीं जानता है कि यह पैसा उनके पास कहां से आया है। क्रिश्चियन मिशेल के खुलासे के बाद भी कोशिश की जा रही है कि अगस्तावेस्टलैंड घोटाले से जुड़े दूसरे पहलुओं को जनता के सामने आने से या पहुंचने से रोका जाए

एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट की शिकायत


आज क्रिश्चियन मिशेल ने दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में एक आवेदन दिया है जिसमें उसने एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट की शिकायत की है। क्रिश्चियन मिशन ने ED पर सवाल उठाए हैं कि कोर्ट के संज्ञान लेने से पहले मीडिया में रिपोर्ट कैसे लीक हो गई और ED इसका राजनीतिक इस्तेमाल कर रही है। उसका कहना है कि ED सरकार के इशारे पर इस मामले की निष्पक्ष जांच करने के बजाय मीडिया ट्रायल करवाना चाहती हैक्रिश्चियन मिशेल के कंप्लेंट के बाद कोर्ट ने एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट से जवाब मांगा है। ED को इस मामले पर कल तक अपना जवाब देना।

क्यों परेशान है मीडिया और कुछ लोग

चार्जशीट लीक हो जाने से कुछ पत्रकारों के नाम सामने आए हैं इनमें सबसे बड़ा नाम शेखर गुप्ता का है लेकिन किसी भी अखबार ने इस खबर को नहीं छापा और किसी भी मीडिया ने इसे नहीं दिखाया। क्रिश्चियन मिशेल के खुलासे के बाद अब कांग्रेस पार्टी पर जवाब देने का दबाव बढ़ गया है तो सोनिया गांधी ने मीडिया में सामने आकर मोदी सरकार से यह सवाल पूछा है की पिछले 4 सालों में आप ने जांच कंप्लीट क्यों नहीं की।


क्यों जांच नहीं हो सकी अभी तक

सीबीआई ने 2013 को केस दर्ज किया था लेकिन इटली की कंपनियों को ब्लैक लिस्ट करने का काम 2014 में हुआ यानी कि यूपीए की सरकार ने 2013 - 2014 तक कोई भी काम नहीं किया। सीबीआई ने जांच की शुरूआत तक नहीं की और सीबीआई ने ED को FIR की कॉपी भी नहीं दी। ED खुद से PMLA के अंतर्गत तब तक कार्रवाई शुरू नहीं कर सकता जब तकFIR दर्ज ना हो। सीबीआई ने ED को FIR की कॉपी उपलब्ध कराने के लिए एक पत्र लिखा 2013 में लेकिन सीबीआई ने इस पत्र का जवाबने 6 महीने के बाद दिया और उसके बाद ED ने एनडीए की सरकार आने तक कोई भी कार्रवाई नहीं की। जुलाई 2014 में ईडी ने इसी मामले में एफ आई आर दर्ज करके कार्रवाई को शुरू किया विराम।

क्या लिखा है चार्जशीट में


"Christian Michel James in his statement u/s 50 of PMLA has admitted hiring services of Guy Douglas to influence the media and this fact is further corroborated by act of influence on Manu Pubby and Shekhar Gupta to tone down his article in Indian Express."














ED का चार्ट शीट और अगस्तावेस्टलैंड घोटाला ED का चार्ट शीट और अगस्तावेस्टलैंड घोटाला Reviewed by India Tv Network on April 06, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.